Kaam Vaasna

कुछ पुरानी PDF कहानियाँ Download Kahani App
बरसात की रात में शीला की जवानी-1

बरसात की रात में शीला की जवानी-1

शीला मेकअप करके दुल्हन को स्टेज पर लेकर आई तो हमारी नज़र दुल्हन की जगह उसकी सहेलियों पर गोते खाने लगी और एकाएक शीला से जा मिली।
नज़र क्या मिली जनाब दुल्हन से ज्यादा खूबसूरत थी शीला! थोड़ी भीड़भाड़ थी या शीला कुछ ज्यादा व्यस्त थी कि शीला का ध्यान मुझ पर ज्यादा नहीं गया।
कुछ देर तक सभी लोग पार्टी का लुत्फ़ ले रहे थे और मैं था कि सोच रहा था कि किस तरह इस नाज़ुक हसीना से बात हो!

बरसात की रात में शीला की जवानी-2

बरसात की रात में शीला की जवानी-2

बस अगले ही पल मैंने अपना हाथ हटा कर सीधे उसकी जाँघ पर रख दिया, तो उसने अपनी आँखें बंद कर ली और अपना सर सीट के ऊपर झुका कर लंबी साँस ली।
इतने में मैंने उसके कंधे पर हाथ रख कर पूछा- क्या हो गया?
उसने कुछ नहीं कहा, मैंने बहाने से उसके गालों को छू लिया, तो उसके गाल बहुत गर्म हो रहे थे।

अभी ना जाओ चोद के ! -2

अभी ना जाओ चोद के ! -2

मैं अपने आप को शीशे में देख कर शरमा गई। मैंने बड़ी अदा से अपना घाघरा और कुर्ती उतारी। अब मैं शीशे के सामने केवल काली पैंटी और ब्रा में खड़ी थी। काली ब्रा और पैंटी में मेरा बदन ऐसे लग रहा था जैसे खजुराहो की मूर्ति हो।

अभी ना जाओ चोद के !-3

अभी ना जाओ चोद के !-3

आह …. यही तो कमाल है जवान लौंडों का। अगर झड़ते जल्दी हैं तो तैयार भी कितनी जल्दी हो जाते हैं। मैं उसे हाथ में लेकर मसलने लगी तो मिट्ठू ने मेरी निप्पल को दांतों से काट लिया। “आईई ……” मेरे मुंह से हलकी सी किलकारी निकल गई।

शाकाल और नंगी हसीनाएँ-2

शाकाल और नंगी हसीनाएँ-2

रीता, गीता और रंजना भी नंगी हो गई थीं, अब कमरे में उमा के अलावा हम सब लोग नंगे थे। मैं और शाकाल बीच बीच में एक दूसरे को देख कर मुस्कुरा रहे थे और ड्रिंक पीते हुए अपनी अपनी हसीनाओं को मसल रहे थे।

शाकाल और नंगी हसीनाएँ-3

शाकाल और नंगी हसीनाएँ-3

डांस बंद हो गया था, शराब ख़त्म हो रही थी। उमा ने फ़ोन करके दो गुण्डों से अन्दर बोतल लाने को कहा। हमने सपना और निशा को गोद में उठाया और पास में पड़े गद्दों पर लिटा दिया। दोनों ने अपनी टांगें चौड़ी कर दीं और चोदने का इशारा करने लगीं।

क्यों हो गया ना ?

क्यों हो गया ना ?

मैं ड्राइंग रूम में अकेला सोफे पर बैठा हूँ बिलकुल नंगधड़ंग, पप्पू बेकाबू हुआ जा रहा है। आज तो उसका जलाल और लम्बाई देखने लायक है। अड़ियल टट्टू की तरह अकड़ा हुआ है. इतने में मोबाइल की घंटी बजती है, मैंने मोबाइल की स्क्रीन देखी पर नंबर की जगह केवल ********** आ रहे हैं. कमाल है ये कैसा और किसका नंबर हो सकता है ? …..

शाकाल और नंगी हसीनाएँ-4

शाकाल और नंगी हसीनाएँ-4

उमा मंच से बोली- अब आपके सामने आपकी सीट पर पर्चियों से भरा एक डिब्बा आएगा, आप अपनी परची निकालिए और उस पर जो नम्बर लिखा है उस नम्बर की हसीना को लण्ड सेवा काउंटर पर परची दिखा कर ले आएं, उस हसीना की जवानी का रस पीजिए और देखिए अपनी प्यारी भाभी शीतल और राखी का नग्न मुजरा। पहले मुजरे के बाद आप हाल के गेट नम्बर 6 से चुदाई हाल में जाकर अपनी पर्ची वाले कमरा नम्बर में कर सकते हैं अपनी हसीना की आगे और पीछे से प्यार भरी लण्ड से ठुकाई।

शाकाल और नंगी हसीनाएँ-5

शाकाल और नंगी हसीनाएँ-5

उमा ने बताया- शीतल एक शरीफ औरत है और उसके पति निजी बैंक मैं काम करते हैं। शीतल को जुआ खेलने की आदत है। अक्सर वो 10-15 हज़ार अपने जेवर रखकर मुझसे उधार लेती रहती थी। मैं शरीफ औरतों को बिना ब्याज के सोना गिरवी रखकर उधार देती हूँ। इसी कारण से मेरी कई घरेलू औरतों से दोस्ती है। एक बार शीतल ने पति के एक लाख रुपए किट्टी पार्टी में जुए में उड़ा दिए। शीतल को तुरंत वो पैसे चाहिए थे नहीं तो वो पति की नज़रों में भी गिर जाती। उसने 40000 रुपए के जेवर पहले ही मेरे पास उधार रखे हुए थे। शीतल ने मुझे अपनी परेशानी बताई लेकिन मैंने उसे पैसे देने से मना कर दिया।

नए माली से भी गाण्ड मरवाई

नए माली से भी गाण्ड मरवाई

पाठको, लण्ड के बिना रहना मेरा मुश्किल सा है इसलिए कहीं भी मौका मिले, मैं नहीं चूकता। इसीलिए हर चुदाई नहीं लिख सकता, जब किसी नए लण्ड से चुदता हूँ तब ज़रूर बताता हूँ।

जीजा ने मेरा जिस्म जगाया-1

जीजा ने मेरा जिस्म जगाया-1

बात तब से शुरु हुई जब मैं अठरह की हुई, शीशे में अपने नाज़ुक कूल्हे, सफेद मलाई की तरह चिकने दूध और जांघें देख अपने पर आते तूफ़ान का अंदाजा होता। जीजा का मेरे साथ काफी हंसी मज़ाक चलता था, वो मुझसे इतने बड़े थे कि किसी ने सपने में भी ना सोचा होगा कि कभी हमारे जिस्म मिल सकते हैं।

जीजा ने मेरा जिस्म जगाया-3

जीजा ने मेरा जिस्म जगाया-3

“शटअप जीजू ! आप भी न !”

फ़ुलवा

फ़ुलवा

कभी-कभी फोन से बात होती हैं लेकिन फोन से बात करके मन तो भरता है परन्तु देह की माँग पूरी नहीं होती।