Kaam Vaasna

कुछ पुरानी PDF कहानियाँ Download Kahani App
पंख निकल आये-1

पंख निकल आये-1

बस इतनी सी बात पर माँ गुस्सा झाड़ने लगी- अभी से मोबाइल का तू क्या करेगी, तेरा कोई बॉय-फ्रेंड है जो तुझे अब यह खिलौना चाहिए? ख़बरदार जो कभी लड़कों को मुँह लगाया। हमारे घराने की लड़कियाँ शादी तक किसी अनजाने लड़के को हाथ नहीं लगाने देती।

पंख निकल आये-2

पंख निकल आये-2

रति ने शतुरमुर्ग की तरह अपना चेहरा रोहित के सीने में छुपा लिया। पुरुष वक्ष से लग कर उसे मदमोहक गंध का आभास हुआ। वह अभी भी घबरा रही थी लेकिन छटपटाहट मंद हो गई। बलिष्ठ पुरुष के सीने से लग कर उसे एक सहारे का बोध हो रहा था। खुले दरवाजे में एक तरह से वह ज्यादा सुरक्षित थी। सोच रही थी, जब तक दरवाजा खुला है, शायद मामाजी एक हद से आगे उसका मर्दन नहीं करेंगे।

फिर दूसरी से कर लेना-5

फिर दूसरी से कर लेना-5

टीना ने कहा- उससे तो हम रोज ही चुदते हैं और भाभी आने के बाद भी चुदेंगी पर तू कहाँ फिर मिलेगा !

फिर दूसरी से कर लेना-6

फिर दूसरी से कर लेना-6

उसने कहा- दो चार दिन तो लग ही जायेंगे !

प्रीत की कहानी

प्रीत की कहानी

एक दिन मैंने उसे अपने जन्मदिन के बहाने अपने घर बुला लिया। वह आई और मेरे लिए एक सुंदर सी कमीज़ लाई। उस दिन उसने कसी हुई जीन पहनी हुई थी और कसा हुआ टॉप पहना हुआ था, जिसमें से उसके उभार एकदम मस्त लग रहे थे। वो आई, मुझे जन्मदिन की बधाई दी और हम कमरे में जाकर बैठ गए। मेरे मम्मी ने हमे चाय दी और खुद दूसरे कमरे में चली गई।

भाभी तड़प गई

भाभी तड़प गई

अब मम्मी बोलने लगी- अनिल बेटा, तेरे भाई की रात की ड्यूटी है, तू अपने कमरे में सोने की बजाय अपनी भाभी के साथ सो जाना, कभी वो अकेली डर जाये!

तू मुझे उठा

तू मुझे उठा

तो अब बात पर आते हैं असली बात पर !

बुआ ने मुझे चोदा

बुआ ने मुझे चोदा

मेरा नाम कमल है मेरी उम्र 22 साल है, लण्ड सात इंच, बदन गोरा, लम्बाई 5 फ़ुट 10 इंच, गठीला बदन है।

दो की प्यास बुझाई

दो की प्यास बुझाई

हमारे घर की नौकरानी का आने का समय हो रहा था और मुझे काफी नींद आ रही थी। मैं फिर अपने कमरे में जाकर सो गया। मैं अपने कमरे का दरवाजा बंद करने भूल गया था और मैं बनियान- चड्डी में सो गया(बिना पैंट और शर्ट के)। हमारी नौकरानी को पूरे घर का झाड़ू-पोचा करना था। वो मेरे कमरे में आ गई, मुझे तब तक नींद नहीं आई थी। मैं सिर्फ लेटा था। नौकरानी सिर्फ एक साड़ी पहने थी। वो मेरे बेड के पास आकर खड़ी हो गई और मेरी चड्डी उतारने लगी पर मैं उठा नहीं, मैं सोने का नाटक कर रहा था। वो मेरे लंड को चूसने लगी और मेरे हाथ को पकड़कर अपनी बुर में लगाने लगी। उसकी बुर और साड़ी पूरी तरह गीली हो गई थी।

खुल्लम-खुल्ला प्यार करेंगे-1

खुल्लम-खुल्ला प्यार करेंगे-1

राज का मन बाग बाग हो गया। उसने धीरे से रूपल के उभरे हुये स्तन पर अपना हाथ रख दिया। राज को उसके दिल की धड़कन साफ़ महसूस होने लगी थी। रूपल के स्तन दब गये और वातावरण में एक सिसकारी गूंज गई। राज का लण्ड तन्ना उठा और उसके चूतड़ो की दरार में घुसने को इधर उधर ठोकरें मारने लगा। राज का चेहरा रूपल के चेहरे पर झुक गया और उसके अधर अपने अधरों से दबा दिये। रूपल का चेहरा तमतमा उठा, उस पर ललाई फ़ैल गई।

खुल्लम-खुल्ला प्यार करेंगे-2

खुल्लम-खुल्ला प्यार करेंगे-2

‘जानू, मेरी गोदी में तो तुम रोज ही बैठती हो , आज साहिल को खुश कर दो!’
अंजलि इठला कर उठी और मुस्कराते हुये तिरछी नजरों से साहिल को देखा, उसका लण्ड खड़ा था। उसने अपनी चूतड़ पीछे उभारी और उसके उभार को देख कर अपने चूतड़ सेट करके धीरे से बैठ गई। रूपल थोड़ा शरमा रही थी, वो बस राज के पास आकर खड़ी हो गई। राज ने अपनी पैन्ट की ज़िप खोल दी और अपना लण्ड बाहर निकाल लिया।
‘आ जाओ, आपकी गद्दी तैयार है।’
‘धत्त, साहिल के सामने ही…’ रूपल शर्मा उठी।

भाभी को जन्मदिन का तोहफ़ा

भाभी को जन्मदिन का तोहफ़ा

जब भी मैं नहाने जाता, नंगा होकर खूब नहाता और मीनू की ब्रा और पेंटी से खूब खेलता। उसे पहनकर नहाता और कभी कभी उसे लंड में फँसाकर मुठ मारता। पैसे की मेरे पास कमी नहीं है, घर से खूब आते रहते हैं। मैंने मकान मालिक को बताया कि मैं पढ़ाई करता हूँ। कुछ दिन ऐसे ही गुजरते गए, कभी कभी मीनू को, कभी उसकी माँ को मैं बाथरूम में देखता, पूरा तो दिखता नहीं था पर जितना दिखता था मेरे मौसम बनाने के लिए काफी था।

वेब से बेड तक-1

वेब से बेड तक-1

चैट-साईट पर हम लोगों में चुदाई की बातें होने लगी। मैंने उसको बताया कि मुझे बड़ी उमर की औरतें बहुत पसन्द हैं। उसने मेरे से पूछा कि मैं किस बड़ी उमर की औरत के बारे में सोच कर हस्तमैथुन करता हूँ ।

वेब से बेड तक- 2

वेब से बेड तक- 2

मैं बोला- क्या बताँऊ माँ ! बस इतना कह सकता हूँ कि तुम्हारे इस बेटे को तुमसे बहुत कुछ सीखना है। सीखाओगी ना माँ अपने इस अनाड़ी बेटे को?

वेब से बेड तक-3

वेब से बेड तक-3

फिर मैंने कहा- मुझे तुम्हारे पैरों में ये उँची ऐड़ी के सैंडल भी बहुत अच्छे लगते हैं। जब तुम इनको पहन कर चल रही थी तो तुम्हारे भारी भरकम चूतड़ क्या मस्त मटक रहे थे और 5 इन्च हील की वजह से चूतड़ और भी उभर कर शरीर के बाहर की ओर निकल आये हैं जो कि इन बड़े बड़े चूतड़ों को और भी मस्त बना देते हैं जिसकी वजह से ये और भी बड़े लगते हैं और ऊँची हील की वजह से चाल और भी मस्तानी हो जाती है क्योंकि तुम्हारे मम्मे इतने बड़े हैं, इसलिये ये हर कदम के साथ उछलते हैं और यह दृश्य देख कर किसी मुर्दे का लंड भी खड़ा होने को मजबूर हो जाये।

चाँदनी को कली से फूल बनाया

चाँदनी को कली से फूल बनाया

वहाँ से चाँदनी खिड़की में खड़ी साफ दिख रही थी, उसकी फ्रॉक घुटने के ऊपर तक की होने की वजह से उसकी सुडौल जांघें और थोड़ी सी चड्डी भी दिख जा रही थी तो मेरा लंड खड़ा होने लगा. मैंने पहले तो सोचा कि मेरे से 15 साल छोटी लड़की है, कुँवारी है, मुझे गंदा नहीं सोचना चाहिए…