Kaam Vaasna

कुछ पुरानी PDF कहानियाँ Download Kahani App
मेरी कुंवारी बुर की ठुकाई की चाहत

मेरी कुंवारी बुर की ठुकाई की चाहत

बहुत बार ट्राई किया कि किसी लण्ड को फंसाऊं लेकिन अभी तक मैं अपने मकसद में कामयाब नहीं हो पाई थी। फिर एक दिन वो मौका आ ही गया जब मुझे अपने लिए एक लण्ड मिल गया। जो मेरी चूत का उद्घाटन करने के लिए जल्दी ही तैयार भी हो गया।

मौसी के लड़के से बिंदास चुदी

मौसी के लड़के से बिंदास चुदी

मैंने उस वक्त तो उसकी बात को मजाक में ले ली थी. लेकिन मुझे क्या मालूम था कि वो मुझसे सही में ऐसी दोस्ती करना चाहता था.

मुन्नी की कमसिन बुर की पहली चुदाई-3

मुन्नी की कमसिन बुर की पहली चुदाई-3

मैंने पैरों को और फैला दिया, जिससे अंकल को मजा आ रहा था. मैं एक हाथ से अंकल के लंड को दबा रही थी. अंकल मेरी काली और फूली हुई रोएं से भरी बुर पर नज़रें गड़ाए अपनी उंगली से बुर को चोद रहे थे. मैंने फिर से अपने एक हाथ से अंकल के हाथ को पकड़ा और बुर में तेज़ी से खुद ही चोदने के लिए जोर लगाने लगी.

मेरे दोस्त की पत्नी और हम तीन-3

मेरे दोस्त की पत्नी और हम तीन-3

नीलम की चूत भी होने वाले हमले और घमासान के लिए तैयार दिख रही थी। मेरा लन्ड अपने पूरे जोश पर था। नीलम अपने हाथ से मेरे लन्ड को सहला रही थी और मैं उसकी चूत को। नीलम फिर से गर्म होने लगी थी। उसके मुंह से फिर से सिसकारियां निकलने लगी थी।

मेरे चुदाई के सफर की शुरुआत

मेरे चुदाई के सफर की शुरुआत

पर वो रुकी नहीं और आगे को चली गयी. फिर पता नहीं क्या हुआ, उसने कार पीछे करके मुझे एक पता पूछा.

मैनेजर मैम की वासना मेरे लंड से बुझी

मैनेजर मैम की वासना मेरे लंड से बुझी

इस मीटिंग के तकरीबन चार हफ़्तों के बाद किसी क्लाइंट के साथ बंगलोर में मीटिंग थी, तो हमारे डिपार्टमेंट से हमारे बॉस जाने वाले थे.

दीदी की सहेली को कार में चोदा

दीदी की सहेली को कार में चोदा

तभी अचानक मुझे याद आया कि मैंने तो उसकी ब्रा को सेक्स करते समय फाड़ दिया था. यही सोचते सोचते मैं तुरंत काम छोड़ कर अंकल के घर तरफ बढ़ने लगा. मुझे इसी के साथ खुद पर गुस्सा भी आ रहा था … क्योंकि उसने कहा था कि ब्रा तुम ही लाओगे.

अठरह बरस की शोला जवानी

अठरह बरस की शोला जवानी

उस रात जब पिंकी के घरवाले सो गए, तो उसने दरवाज़ा बंद करके बुक से एक सीडी निकाली. उसे सीडी प्लेयर में लगा कर चलाया. वो सीडी एक ब्लूफिल्म की थी. मैं पहली बार ब्लू फिल्म देख रही थी. मैं नज़र गड़ाए उसको ही देख रही थी. बड़े बड़े लंड और नंगी गोरियां बेशर्म होकर अपनी जवानी का लुत्फ उठा लंड चूस रही थीं.

मेरे दोस्त की पत्नी और हम तीन-4

मेरे दोस्त की पत्नी और हम तीन-4

रमन और सोहित मेरे घर आ चुके थे। हम तीनों बैठकर बात करने लगे।
“यार रमन … मुझे तुम दोनों से बहुत जरूरी बात करनी है!” मैंने कहा।
“हाँ बोलो यार सरस?” रमन ने कहा।
“रमन, सोहित… यार बात कुछ ऐसी है कि मैं सिर्फ तुम्हारे ऊपर ही भरोसा कर सकता हूं। यदि ये बात हम तीनों के बीच से निकली तो समझो बहुत बड़ा नुकसान होगा।”
मेरे कंधे पर हाथ रखते हुए सोहित बोला- यार रमन, हम तीनों एक दूसरे के राजदार हैं और आज तक हर राज हम तीनों के बीच रहा है। तुम चिंता मत करो, बोलो क्या बात है?
“मैं तुम दोनों पर दुनिया में सबसे ज्यादा भरोसा करके बता रहा हूं रमन!” मैंने कहा।
“बोलो ना यार?” रमन बोला।

भाभी चुदाई के लिए बेताब थी-2

भाभी चुदाई के लिए बेताब थी-2

मुझे उसकी मस्ती भरी चुदासी सिसकारियां बहुत अच्छी लग रही थीं. मैंने अपनी उंगली उसकी चूत के अन्दर रोक दी, पर अंगूठे से दाना रगड़ता रहा था और चूची चूस कर काट रहा था, चूतड़ भींच रहा था.
नेहा ने अपनी एक बांह मेरी गर्दन में लपेट रखी थी- हाय राम राजू.. मेरे चोदू राजा.. आज तो बहुत सारा रस निचोड़ डाला..

बस का सफर और प्यासी जवानी का साथ

बस का सफर और प्यासी जवानी का साथ

हुआ ऐसा कि जब मैं घर से निकला, तब तक काफी रात हो गई थी. जैसे ही बस बरेली से चली तो बारिश शुरू हो गई. मैंने बस में खिड़की की तरफ़ की सीट बुक करायी थी. मैं खिड़की के बगल में बैठा बारिश का मजा ले रहा था. कंडक्टर आया तो मैंने उसको अपना टिकट दिखाया और सो गया.

मेरी रानी की कहानी-1

मेरी रानी की कहानी-1

आज भी उन पलों को याद करता हूँ तो यह गजल गुनगुना लेता हूँ, यादें ताजा हो जाती हैं. आप को भी अगर गजलें पसंद हों तो इस ग़ज़ल को सुनते हुए मेरी कहानी का आनन्द लीजिएगा।

अपनी प्यारी मौसी को चोदा

अपनी प्यारी मौसी को चोदा

कुछ देर बाद मौसी नाश्ता ले कर आईं और मेरे बाजू में बैठ कर बातें करने लगीं कि मेरी पढ़ाई कैसी चल रही है.

मेरे दोस्त की पत्नी और हम तीन -5

मेरे दोस्त की पत्नी और हम तीन -5

नीलम अचानक हुए इस हमले से संभल नहीं पाई और आनन्द और दर्द के दोहरे मिश्रण के कारण अपनी गान्ड को उठाकर चिहुंक पड़ी। नीलम के गांड उठाने की वजह से रमन का लन्ड और भी अधिक गहराई तक नीलम की चूत में समा गया। रमन थोड़ा रुका और नीलम को आराम लेने देने लगा। नीलम के मुंह को अब सोहित चोद रहा था। लगातार मुंह चोदन की वजह से नीलम का मुंह शायद दर्द करने लगा था या फिर चूत में लंड को पाकर नीलम का उतना ध्यान मुंह में पड़े लंड पर नहीं था। इसलिए सोहित का लन्ड नीलम ठीक तरह से चूस नहीं पा रही थी।

कॉलेज में मिला टीचर का बड़ा लंड

कॉलेज में मिला टीचर का बड़ा लंड

यह उस टाइम की बात है, जब मैंने कॉलेज ज्वाइन किया था. नये लोग, नये टीचर, नई लड़कियां, नये लड़के, सब बहुत अच्छा अच्छा था. कॉलेज के लगभग दो महीने पूरे हो गए थे, सब लोग दूसरे को समझने लगे थे. हमारी क्लास में एक सर पढ़ाने आते थे, जो कि मेरे उन 12 वीं क्लास वाले सर की तरह थे, जिनकी कहानी मैंने पहले भी बताई थी.

जंगल सेक्स: कामुकता की इन्तेहा-12

जंगल सेक्स: कामुकता की इन्तेहा-12

मैं बस मुंह बना के रह गयी और उसी तरह उसके साथ घूमने फिरने लगी। मेरी चाल में वाइब्रेटर और दारू की वजह से इतना फर्क आ गया था कि लोग मुझे मुड़ मुड़ कर देखने लगे कि माजरा क्या है। लेकिन उन्हें क्या पता था कि जट्टी की अनचुदी गांड में 8″ का मोटा वाइब्रेटर फंसा हुआ है और बहुत ज़ोर से वाइब्रेट भी कर रहा है।